Skip to content

UPPSC PCS Prelims Exam 24 October 2021 Answer Key (Shift 2)

  • by

24 october 2021 को उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC) द्वारा आयोजित उत्तर प्रदेश पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा (Uttar Pradesh PCS preliminary examination) – 2021 का सामान्य अध्ययन (General Studies-II) – द्वितीय प्रश्न (second exam paper) पत्र उत्तर कुंजी (Answer key) सहित हमारी वेबसाइट में उपलब्ध है।


विषय : सामान्य अध्ययन – प्रथम (General Studies-II)
परीक्षा तिथि : 24 October 2021
समय : 2 घण्टे 
पूर्णांक : 200
कुल प्रश्न : 100


UPPSC PCS Prelims Exam 24 October 2021 Answer Key (Shift 1)

Q1. सारणी – 1 से सारणी – 2 का सही मिलान कीजिए तथा कूट से सही विकल्प का चयन कीजिए।
सारणी-1          सारणी -2
A. अल्पविराम     1.
B. कोष्ठक           2. o
C. संक्षेपसूचक     3. ,
D. योजक           4. ()
कूट :
    A B C D
(a) 2 1 3 4
(b) 3 2 4 1
(c) 1 3 2 4
(d) 3 4 2 1

Q2. ‘उत्कर्ष’ का विलोम है
(a) निष्कर्ष
(b) उपकर्ष
(c) अपकर्ष
(d) उत्सर्ग

Q3. ‘आजीवन’ में समास है
(a) तत्पुरुष
(b) अव्ययीभाव
(c) द्वंद्व
(d) कर्मधारय

Q4. ‘जिजीविषा’ का अर्थ है
(a) जीने की इच्छा
(b) जीतने की इच्छा
(c) परोपकार की इच्छा
(d) प्रबल इच्छा

Q5. ‘उसने नहाकर भोजन किया’ – वाक्य में ‘नहाकर’ किस क्रिया का उदाहरण है ?
(a) प्रेरणार्थक
(b) द्विकर्मक
(c) संयुक्त
(d) पूर्वकालिक

Q6. ‘बहती गंगा में हाथ धोना’ – मुहावरे का सही अर्थ है
(a) अवसर खो देना
(b) अवसर का लाभ उठाना
(c) अवसर की परवाह करना
(d) अवसर को पहचानना

Q7. ‘गमन’ शब्द को विपरीतार्थक बनाने के लिए इनमें से किस उपसर्ग का प्रयोग शुद्ध है ?
(a) अनु
(b) आ
(c) उप
(d) परि

Q8. शब्द चयन की दृष्टि से इनमें एक शुद्ध वाक्य है
(a) रवीन्द्रनाथ टैगोर की कुछ रचनाओं का नागरी भाषा में अनुवाद हुआ है।
(b) राजा हरिश्चन्द्र के सदृश्य कोई सत्यवादी नहीं हुआ।
(c) पद्य के चौथे भाग को चरण कहते हैं।
(d) रामचन्द्र शुक्ल ने अनेक ग्रन्थों की रचना की।

Q9. ‘स्वार्थ’ में निम्नलिखित में से कौन-सी संधि है ?
(a) दीर्घ
(b) यण
(c) वृद्धि
(d).गुण

Q10. महत्त्वपूर्ण कृति ‘कृष्णायन’ उत्तर प्रदेश की बोलियों में से किस बोली में लिखी गयी है ?
(a) खड़ी बोली में
(b) अवधी बोली में
(c) ब्रज बोली में
(d) बघेली बोली में

Q11. निम्नलिखित में से सही युग्म चुनिए।
(a) गलीचा – पुर्तगाली
(b) आमदनी – फारसी
(c) अंग्रेज़ – फ्रेंच
(d) पादरी – तुर्की

Q12. ‘अज’ का अर्थ नहीं है
(a) जिसका जन्म न हो
(b) दशरथ के पिता
(c) मोती
(d) ब्रह्मा, विष्णु, शिव

Q13. निम्नलिखित में ‘देवता’ का पर्यायवाची शब्द है
(a) किंकर
(b) विबुध
(c) विपुल
(d) लोकेश

Q14. ‘हो सकता है वह आया हो’ – वाक्य है
(a) अनिश्चित वर्तमान
(b) सन्दिग्ध वर्तमान
(c) सम्भाव्य वर्तमान
(d) अपूर्ण वर्तमान

Q15. निम्नलिखित में से शुद्ध वर्तनी वाला शब्द है
(a) कवयत्री
(b) घनिष्ठ
(c) चिन्ह
(d) ईर्षा

Q16. हिन्दी शब्दकोश में ‘क्ष’ का क्रम इनमें से किस वर्ण के बाद में आता है ?
(a) ह.
(b) छ
(c) क
(d) ष

Q17. निम्नलिखित में तत्सम-तद्भव का शुद्ध युग्म है
(a) नछत्र – नखत
(b) पक्वान्न – प्रकृवात्त
(c) गृद्ध – गीध
(d) अवश्याय – ओस

Q18. निम्नलिखित में से किस शब्द में एकाधिक उपसर्गों का प्रयोग हुआ है ?
(a) अनुकरण
(b) निहत्था
(c) व्याकरण
(d) आगमन

प्रश्न संख्या 19 से 23 के लिए : अधोलिखित गद्यांश को ध्यान से पढ़िए तथा प्रश्न संख्या 19 से 23 के उत्तर इस गद्यांश के आधार पर दीजिए।

प्रकृति ने मानव जीवन को बहुत सरल बनाया है, किन्तु आज का मानव अपने जीवन-काल में ही पूरी दुनिया की सुख-समृद्धि बटोर लेने के प्रयास में उसको जटिल बनाता जा रहा है। इस जटिलता के कारण संसार में धनी-निर्धन, सत्ताधीश-सत्ताच्युत, संतानवाननिस्संतान सभी सुख-शान्ति की चाह तो रखते हैं, किन्तु राह पकड़ते हैं आह भरने की, मरु-मरीचिका के मैदान में जल की, धधकती आग में शीतलता की चाह रखते हैं । विद्वानों का विचार है कि संसार में सुख का मार्ग है – आत्मसंयम । किन्तु मानव इस मार्ग को भूलकर सांसारिक पदार्थों में, इन्द्रिय विषयों की प्राप्ति में आनन्द्र ढूँढ़ रहा है। परिणामतः दुःख के सागर में डूबता जा रहा है । आत्मसंयम का मार्ग अपने में बहुत स्पष्ट है, उसकी उपादेयता किसी भी काल में कम नहीं होती । इन्द्रिय विषयों का संयम ही आत्मसंयम है । भौतिक पदार्थों के प्रति इन्द्रियों का प्रबल आकर्षण मानवीय दुःखों का मूल कारण माना गया है । उपभोक्तावादी संस्कृति के फैलाव से यह आकर्षण लीन से तीव्रतर होता जा रहा है । पर ऐसी स्थिति में याद रखना आवश्यक है कि ये भौतिक पदार्थ सुख तो दे सकते हैं, आनन्द नहीं । आनन्द का निर्झर तो आत्मसंयम से फूटता है । उसकी मिठास अनिर्वचनीय और अनुपम होती है । इस मिठास के सम्मुख धन-संपत्ति, सत्ता, सौंदर्य का सुख, सागर के खारे पानी जैसा लगने लगता है।

Q19. आत्मसंयम का तात्पर्य है
(a) अपनी आत्मा पर नियंत्रण
(b) अपनी भावनाओं का नियमन
(c) अपने मन का वशीकरण
(d).इन्द्रियों के विषय के प्रति आकर्षण पर संयमन

Q20. सत्ताच्युत का सही वर्तनी विश्लेषण है
(a) स् अत् त आ च् अ य उ त् अ
(b) स् अ त् त् आ च य उ त् अ
(c) स त् ता च यु त
(d) स त् आ च् य उ त् अ

Pages: 1 2 3 4 5
error: Content is protected !!