Skip to content

कछवाहा वंश से जुड़े कुछ मुख्य तथ्य

  • by

कछवाहा वंश से जुड़े कुछ मुख्य तथ्य


Some Important Facts Related to Kachhwaha Dynasty


  • 1612 ई. के आमेर अभिलेख में कछवाहों को रघुवंश तिलक कहा गया है।
  • कछवाहा वंश की कुलदेवी “जमूवाय माता” है।
  • कछवाहों की आराध्य देवी “शीला माता” है।
  • कछवाहा वंश का झंडा पहले सफ़ेद रंग का था।
  • मानसिंह (I) काबूल अभियान के बाद झंडे को पचरंगा कर देते है, जिसमे हरा, नीला, पिला, लाल व काला रंग था।
  • कछवाहा वंश का वाक्य था – “यतो धर्मस्ततो जय:” लिखा है जिसका अर्थ है- ‘जहां धर्म है वहां सत्य की सदा जय होती हैं’!
  • कछवाहा राजवंश के संस्थापक दूल्हराय (तेजकरण) थे।
  • दुल्हराय ( दुलेराम ), ग्वालियर नरेश सोड़देव के पुत्र थे।
  • दूल्हराय ने ढूढ़ाड़ राज्य की स्थापना की थी।
  • जयपुर शहर को पहले आमेर कहा जाता था।
  • आमेर से पहले इस क्षेत्र को ढूढ़ाड़ प्रदेश कहा जाता था। यहाँ ढूढ़ नदी बहती थी जिसके कारण इसका नाम ढूढ़ाड़ पड़ा था।
  • ढूढ़ाड़ क्षेत्र में पहले मीणा व बड़गुर्जरों का शासन था।
  • जमवा रामगढ़ की ढूढ़ाड़ का पुष्कर कहा जाता है। (गुलाब की खेती के कारण इसे ढूढ़ाड़ का पुष्कर कहा जाता है। )
  • दुल्हराय का विवाह मौरा के चौहान शासक रालपसी की कन्या सुजान कँवर के साथ हुआ था।
  • आमेर को आम्रपाली/अम्बावती के नाम से भी जाना जाता है।
  • पृथ्वीराज ने राणा सांगा की वीरता से प्रभावित होकर अपने पुत्र का नाम सांगा रखा था।यह गलता जी तीर्थ में है।
  • गलता जी तीर्थ को उत्तर तोताद्रि या मंकी वैली बोला जाता है।
  • “देबारी समझौता” में सामिल हुए मारवाड़ के राजा अजीत सिंह की पुत्री सुरजकुँवर का विवाह सवाई जयसिंह के साथ होता है , इनके पुत्र ईश्वरी सिंह सवाई जयसिंह की मृत्यु के बाद गद्दी में बैठते है।
  • “देबारी समझौता” में सामिल हुए मेवाड़  के राजा अमर सिंह (II)की पुत्री चाँदकवर से उत्तपन संतान ही आमेर (जयपुर ) का अगला उत्ताधिकारी होगा , माधों सिंह (I)और ईश्वरी सिंह के मध्य युद्ध हुआ था।इस युद्ध में ईश्वरी सिंह की जीत होती है।
  • चाँदकवर की याद में सवाई जयसिंह ने सिसोदिया रानी का बाग महल बनवाया था।
  • जयपुर के सात गेट ध्रुव गेट,चांदपोल,सुरजपोल,सांगानेरी गेट,अजमेरी गेट,घाट गेट,न्यू गेट है।
  • जयपुर के बारे में जानकारी बुद्धिप्रकाश ग्रन्थ में मिलती है।
  • जयपुर परकोटे का निर्माण बिशनसिंह ने करवाया था।
error: Content is protected !!