Skip to content

धार्मिक तथा सामाजिक आंदोलन

धार्मिक तथा सामाजिक आंदोलन Religious and Social Movements देव समाज ( DEV SAMAJ ) –  1887 ईस्वी में शिव नारायण अग्निहोत्री द्वारा लाहौर में देव समाज की स्थापना की गई। शिवना अग्निहोत्री स्वयं ब्रह्म समाज के अनुयायी थे, जिन्होंने शराब और मांस सेवन की आलोचना… Read More »धार्मिक तथा सामाजिक आंदोलन

उत्तराखंड के प्रमुख बुग्याल

उत्तराखंड के प्रमुख बुग्याल बुग्याल किसे कहते हैं? उत्तराखंड राज्य में हिमालयी क्षेत्रों में स्थित, पर्वतों की तलहटी में 3,300 मीटर और 4,000 मीटर की ऊंचाई में अल्पाइन प्रकार चरागाह भूमि या घास के विस्तृत मैदान मिलते है। इन घास के मैदानों को स्थानीय भाषा… Read More »उत्तराखंड के प्रमुख बुग्याल

महासागरीय धारा (Ocean Currents)

  • by

महासागरीय धारा (Ocean Currents) महासागरीय धारा ( mahasagariya dhara ) क्या है? एक निश्चित दिशा में बहुत अधिक दूरी तक महासागरीय जल राशि के प्रवाह को महासागरीय धारा कहते हैं। महासागरीय धाराओं ( mahasagariya dhara ) के बनने का कारण महासागरों में महासागरीय धाराएँ ( mahasagariya dhara ) बनने… Read More »महासागरीय धारा (Ocean Currents)

सामाजिक सुधार- प्रमुख सामाजिक सुधार ( Major social reforms)

सामाजिक सुधार- प्रमुख सामाजिक सुधार Major social reforms सती प्रथा : Sati Pratha (Sati Practice) – वर्ष 1829 तत्कालीन गवर्नर जनरल लॉर्ड विलियम बैंटिक (Lord william bentik) ने सती प्रथा को बंद कर दिया। विलियम बेंटिक ने 1829 ईसवी के नियम 17 के द्वारा सती… Read More »सामाजिक सुधार- प्रमुख सामाजिक सुधार ( Major social reforms)

राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन

राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन Time Division of Rajasthani Literature प्राचीन काल (वीरगाथा काल 1050 ई. – 1550 ई.)  पूर्व मध्यकाल (भक्तिकाल – 1450 ई. – 1650 ई.)  उत्तरमध्यकाल (श्रृंगार/रीती/नीतिकाल 1650 ई. – 1850 ई.)  आधुनिककाल (1850 ई. के बाद)  प्राचीन काल (वीरगाथा काल 1050… Read More »राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन

उत्तराखंड की चित्रकला व लोकचित्र का इतिहास

  • by

उत्तराखंड की चित्रकला व लोकचित्र का इतिहास History of painting and folk painting of Uttarakhand 1) प्राचीन काल – चित्रकला के सबसे प्राचीनतम नमूने लाखू उड्यार,ग्वारख्या,किमनी गाँव,ल्वेथाप,हुडली,पेटशाल,फलसिमा आदि गुफाओं में देखने को मिलते हैं। लाखू गुफा – यह अल्मोड़ा में स्थित है। इस शैल चित्र… Read More »उत्तराखंड की चित्रकला व लोकचित्र का इतिहास

उत्तराखंड राज्य की शिल्पकला

उत्तराखंड राज्य की शिल्पकला Artifacts of Uttarakhand State उत्तराखंड राज्य में शिल्प कला की परंपरा प्राचीन समय से ही समृद्ध रही है। जो की वर्तमान में भी हस्तशिल्प के रूप में भी फल – फूल रही है। उत्तराखंड राज्य की शिल्प कला के प्रमुख भाग… Read More »उत्तराखंड राज्य की शिल्पकला

सिक्खों के प्रथम राजनैतिक नेता-बंदा बहादुर

सिक्खों के प्रथम राजनैतिक नेता-बंदा बहादुर The first political leader of the Sikhs – Banda Bahadur बंदा बहादुर (1708 से 1716 ईस्वी ) जन्म– 1670 ईस्वी जन्म स्थान- पूंछ जिले का राजोली गांव ( जम्मू – कश्मीर ) पिता का नाम- रामदेव भारद्वाज ,इनके पिता एक राजपूत… Read More »सिक्खों के प्रथम राजनैतिक नेता-बंदा बहादुर

67th BPSC Prelims Exam Paper 08 May 2022 (Answer Key)

  • by

67th BPSC Prelims Exam Paper 08 May 2022 (Answer Key) Bihar Public Service Commission (BPSC)  द्वारा आयोजित 67th BPSC Prelims Exam की परीक्षा का आयोजन 08 May 2022 को किया गया। इस पोस्ट में आज हुए प्रश्नपत्र कि उत्तरकुंजी उपलब्ध है। Bihar Public Service Commission (BPSC) … Read More »67th BPSC Prelims Exam Paper 08 May 2022 (Answer Key)

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8

राजस्थान का साहित्यिक इतिहास

  • by

राजस्थान का साहित्यिक इतिहास Literary History of Rajasthan  हम्मीर महाकाव्य – हम्मीर महाकाव्य ग्रन्थ नयनचन्द्र सूरी द्वारा रचित काव्य है। हम्मीर महाकाव्य में चौहानों को सूर्यवंशी बताया गया है। इस ग्रन्थ में अलाउद्दीन खिलजी द्वारा रणथम्भौर अभियान की जानकारी मिलती है। नयनचन्द्र सूरी ने इस ग्रन्थ… Read More »राजस्थान का साहित्यिक इतिहास

error: Content is protected !!